Hindi
Sunday 19th of November 2017
code: 80720
दिलासा हुसैन है।



मज़लूम के लिये यूँ दिलासा हुसैन है।
कटवाके सर जो जीतने वाला हुसैन है।

 

सूखे गले को काट ना पाई सितम की धार
बतला रही हैं आयतें जिन्दा हुसैन है।

 

सज्दे को तूल दे दो हबीबे खुदा ज़रा
हुक्मे खुदा है पुश्त पे बैठा हुसैन है।

 

औक़ात तेरी तुझको दिखाने के वास्ते
शफ्फाफ आईनो को यूँ लाया हुसैन है।

 

आतंकवादी कोई शिया हो नही सकता
इस क़ौम का तो रहनुमा मौला हुसैन है।

 

बिदअत बताने वाले ग़मे शह को जान ले
दुनिया से सीधा ख़ुल्द को रस्ता हुसैन है।

 

बन्दर नचाने वाले ख़लीफा संभल भी जा
दीने नबी बचाने को निकला हुसैन है।

 

ज़हरा के लाल की न घटा पाओगे अज़मत
होकर भी क़त्ल नैजे पे ऊचा हुसैन है।

 

अहमद चलाया हल्क़ पे जिस दम लईन ने
खंजर भी कह उठा बडा प्यासा हुसैन है।

user comment
 

latest article

  सफ़र के महीने की बीस तारीख़
  आशूरा के बरकात व समरात
  सबसे पहला ज़ाएर
  शहादत हज़रत मोहम्मद बाकिर (अ)
  शहादते इमामे मूसा काज़िम
  पाक मन
  सबसे अच्छा भाई
  जनाबे उम्मे कुलसूम बिन्ते इमाम अली (अ.स)
  हज़रत अली अकबर अलैहिस्सलाम
  हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल