Hindi
Sunday 24th of September 2017
code: 80720
दिलासा हुसैन है।



मज़लूम के लिये यूँ दिलासा हुसैन है।
कटवाके सर जो जीतने वाला हुसैन है।

 

सूखे गले को काट ना पाई सितम की धार
बतला रही हैं आयतें जिन्दा हुसैन है।

 

सज्दे को तूल दे दो हबीबे खुदा ज़रा
हुक्मे खुदा है पुश्त पे बैठा हुसैन है।

 

औक़ात तेरी तुझको दिखाने के वास्ते
शफ्फाफ आईनो को यूँ लाया हुसैन है।

 

आतंकवादी कोई शिया हो नही सकता
इस क़ौम का तो रहनुमा मौला हुसैन है।

 

बिदअत बताने वाले ग़मे शह को जान ले
दुनिया से सीधा ख़ुल्द को रस्ता हुसैन है।

 

बन्दर नचाने वाले ख़लीफा संभल भी जा
दीने नबी बचाने को निकला हुसैन है।

 

ज़हरा के लाल की न घटा पाओगे अज़मत
होकर भी क़त्ल नैजे पे ऊचा हुसैन है।

 

अहमद चलाया हल्क़ पे जिस दम लईन ने
खंजर भी कह उठा बडा प्यासा हुसैन है।

user comment
 

latest article

  हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल
  इमाम बाक़िर अ.स. अहले सुन्नत की निगाह में
  इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के ज़माने के ...
  शहादते इमाम अली रज़ा अलैहिस्सलाम
  इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की शहादत
  इमामे रज़ा अलैहिस्सलाम
  सूरए आले इमरान की तफसीर
  जीवन में प्रगति के लिए इमाम सादिक (अ) की ...
  इमाम हसन (अ) के दान देने और क्षमा करने की ...
  रमजान का महत्व।