Hindi
Sunday 24th of September 2017
code: 80716
इस्लाम की अज़मत

इस्लाम की अज़मत का मिनारा हुसैन है।
हर क़ौम कह रही है हमारा हुसैन है।

 

दरीया भी है ह़ुसैन कनारा ह़ुसैन है
हर दम रवाँ रहे जो वो धारा ह़ुसैन है।

 

बी फातेमा की आँख का तारा ह़ुसैन है
मौला अली का राज दुलारा ह़ुसैन है।

 

तह़तूस्सरा से अर्शे मोअल्ला तलक कहीं
कोई नहीं है जैसा न्यारा ह़ुसैन है।

 

नामो नेशान उसका मिटा कर के रख दिया
जिस जिस को एक वार भी मारा ह़ुसैन है।

 

जन्नत में शहद दूध जो तसनीम का दरीया
जितना भी है वो सारा तुम्हारा ह़ुसैन है।

 

नाकाम कर दिया है जो बातिल का इरादा
वो ज़ुल जनाह़ सवार हमारा ह़ुसैन है।

 


सज्दे को कर दिया है शहे दीन ने तवील
पर तुम को पुश्त से ना उतारा ह़ुसैन है।

 

ज़ख़्मी हुआ है सारा बदन से है सर जुदा
दर्दो अलम से फिर भी ना हारा ह़ुसैन है।

 

सौ जान से नेसार क़मर क्यूं ना हम हों जब
अल्लाह के रसूल को प्यारा ह़ुसैन है।

user comment
 

latest article

  इंतेख़ाबे शहादत
  आशूरा का रोज़ा
  माहे मुहर्रम
  पूरी दुनिया में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई ...
  सब से बड़ा मोजिज़ा
  क़ुरआने करीम की तफ़्सीर के ज़वाबित
  हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम
  अमीरुल मोमिनीन अ. स.
  इमाम अली (अ) और आयते मुबाहला
  ** 24 ज़िलहिज्ज - ईद मुबाहिला **