Hindi
Saturday 27th of May 2017
code: 80716
इस्लाम की अज़मत

इस्लाम की अज़मत का मिनारा हुसैन है।
हर क़ौम कह रही है हमारा हुसैन है।

 

दरीया भी है ह़ुसैन कनारा ह़ुसैन है
हर दम रवाँ रहे जो वो धारा ह़ुसैन है।

 

बी फातेमा की आँख का तारा ह़ुसैन है
मौला अली का राज दुलारा ह़ुसैन है।

 

तह़तूस्सरा से अर्शे मोअल्ला तलक कहीं
कोई नहीं है जैसा न्यारा ह़ुसैन है।

 

नामो नेशान उसका मिटा कर के रख दिया
जिस जिस को एक वार भी मारा ह़ुसैन है।

 

जन्नत में शहद दूध जो तसनीम का दरीया
जितना भी है वो सारा तुम्हारा ह़ुसैन है।

 

नाकाम कर दिया है जो बातिल का इरादा
वो ज़ुल जनाह़ सवार हमारा ह़ुसैन है।

 


सज्दे को कर दिया है शहे दीन ने तवील
पर तुम को पुश्त से ना उतारा ह़ुसैन है।

 

ज़ख़्मी हुआ है सारा बदन से है सर जुदा
दर्दो अलम से फिर भी ना हारा ह़ुसैन है।

 

सौ जान से नेसार क़मर क्यूं ना हम हों जब
अल्लाह के रसूल को प्यारा ह़ुसैन है।

user comment
 

latest article

  इमाम अली नक़ी अ.स. के दौर के राजनीतिक ...
  हज़रत इमाम नक़ी (अ.स.) की इमामत
  इमाम महदी अलैहिस्सलाम।
  हज़रत इमाम मेहदी (अ.स.) के इरशाद
  इन्तेज़ार की हक़ीक़त
  15 शाबान
  हज़रत अबुतालिब अलैहिस्सलाम
  हज़रत अली अकबर अलैहिस्सलाम
  ख़ानदाने नुबुव्वत का चाँद हज़रत इमाम ...
  ज़ुहुर या विलादत