Hindi
Sunday 22nd of January 2017
code: 80702
शहादते इमामे मूसा काज़िम



इमामे हफतुमी मूसीए काज़िम दिलबरे ज़हरा
वसीए सादिके आले नबी को ज़हर से मारा


मुकय्यद सत्तरह साल आप ज़िन्दा में रहे पैहम
मगर शिकवा बजुज़ जिक्रे खुदा लब तक नहीं आया


नमाज़े पढ़ता था वक़्ते फज़ीलत रोज़ादार उठकर
फ़रागत पाते ही करता था फिर माबूद का सजदा


सुना यूँ शह को कहते बारहा दरबारे ज़िन्दां ने
के ख्वाहिश थी दिया तूने मुझे ताअत को घर तन्हा


थे एक दिन मुबतिलाए दर्द मौला यह ख़बर सुनकर
तबीबे ख़ास को हारुन रशीदे नहस ने भेजा


यह फहमाएश हकीमे रू सियाह से की थी ताकीदन
दवा में इब्ने फ़रज़न्दे नबी को ज़हर दे देना।

user comment
 

latest article

  जो शख्स शहे दी का अज़ादार नही है
  किस नूर की मज्लिस में मिरी जल्वागरी है
  हज़रत इमाम हसन अस्करी (स) के उपदेश
  दिलासा हुसैन है।
  सुंदरता।
  पैग़म्बर स.अ. की भविष्यवाणी।
  हक़ निभाना मेरे हुसैन का है,
  सर्वोत्तम काम
  शहादते इमामे मूसा काज़िम
  नौहा