Hindi
Saturday 27th of May 2017
code: 80693
भारत और पाकिस्तान में ईदे मीलादुन्नबी के अवसर पर कार्यक्रमों का क्रम जारी।

भारत और पाकिस्तान के विभिन्न शहरों में पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद (स) और उनके पौत्र हज़रत इमाम सादिक़ (अ) के शुभ जन्म दिवस के अवसर पर कार्यक्रमों का सिलसिला जारी है।
भारत और पाकिस्तान से प्राप्त समाचारों के अनुसार दिल्ली और इस्लामाबाद में स्थित इस्लामी गणतंत्र ईरान के दूतावासों में मुसलमानों की इस विशेष ईद पर, एकता सप्ताह के रूप में कार्यक्रम आयोजित किए गए।
भारत से हमारे संवाददाता की रिपोर्ट के अनुसार राजधानी नई दिल्ली में स्थित ईरान के सांस्कृतिक केंद्र में आयोजित हुए एकता सप्ताह कार्यक्रम में मुसलमानों के हर मत ने भाग लिया। दिल्ली में शिया मुसलमानों के इमाम जुमा मौलाना मोहसिन तक़वी और सुन्नी मस्जिद के इमाम मौलाना मोहम्मद मुफ़्ती मुकर्रम अहमद भी शामिल हुए।
एकता सप्ताह के कार्यक्रम में शामिल तमाम धर्मगुरूओं और बुद्धिजीवियों ने इस्लामी क्रांति के संस्थापक इमाम ख़ुमौनी द्वारा हज़रत पैग़म्बरे इस्लाम (स) के जन्मदिवस के अवसर पर इस्लामी कलंडर के रबीउल अव्वल महीने की 12 तारीख़ से 17 तारीख़ तक एकता सप्ताह मनाने के फ़ैसले को इस सदी का सबसे महत्वपूर्ण और दूरदर्शीतपूर्ण फ़ैसला बताया।
दूसरी ओर भारत के ऐतिहासिक शहर लखनऊ में भी युवाओं द्वारा ईदे मिलादुन्नबी और हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ के जन्म दिवस को एकता सप्ताह के रूप में मनाया गया।
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार युवाओं की सालेहीन नामक संस्था की ओर से आयोजित एकता सप्ताह में बड़ी संख्या में शिया और सुन्नी मुसलमानों ने भाग लिया। कार्यक्रम में शामिल सुन्नी धर्मगुरू मौलाना उबैद ने कहा की मुसलमानो में इस समय सबसे बड़ी ज़रूरत एकता की है, क्योंकि मुसलमान इस समय आपसी भाईचारे और एकता से बहुत दूर है। उन्होंने कहा कि हम सबको चाहिए के पैग़म्बरे इस्लाम (स) के द्वारा बताए गए रास्तों पर चलें और आपस में भाईचारा पैदा करे ताकि दुश्मनो की साज़ीशें नाकाम हो जाएं।
पाकिस्तान की राजधानी इस्लाबाद से हमारे संवाददाता की रिपोर्ट के अनुसार इस्लामाबाद में मौजूद ईरानी दूतावास की ओर से एक निजी होटल में ईदे मीलादुन्नबी के अवसर पर एकता के संबंध में एक प्रतिष्ठित समारोह आयोजित किया गया।
एकता सप्ताह के इस भव्य कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पाकिस्तान के धार्मिक मामलों के मंत्री सरदार यूसुफ और प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के विशेष सलाहकार इरफ़ान सिद्दीक़ी ने भाग लिया। समारोह में शिया उलेमा काउंसिल के प्रमुख अल्लामा सैयद साजिद अली नक़वी, मजलिस एकता मुसलमीन के महासचिव अल्लामा नासिर अब्बास जाफ़री और जमाते इस्लामी के महासचिव लियाक़त बलोच सहित विभिन्न मतों और धर्मों के विद्वानों और बुद्धिजीवियों ने भाग लिया।

user comment
 

latest article

  अमेरिका में इस्लाम का उड़ाया जा रहा है ...
  अमरीका में फैलता इस्लामोफ़ोबिया, भेदभाव ...
  चीन में दाढ़ी और बुर्क़े पर पाबंदी
  बहरैन, शेख़ ईसा क़ासिम के प्रतिनिधि शेख ...
  हैदराबाद में इंटरनेशनल मुस्लिम एकता ...
  जर्मनी की 25 वर्षीय महिला ने इमाम रज़ा अ. के ...
  भारत और पाकिस्तान में ईदे मीलादुन्नबी के ...
  मुस्लिम छात्रा ने परीक्षा पर हिजाब को ...
  शैख़ ज़कज़की की रिहाई की मांग को लेकर ...
  इल्म हासिल करना सबसे बड़ी इबादत है।