Hindi
Sunday 19th of November 2017
code: 80678
फातेमा बिन्ते असद का आज दिलबर आ गया



फातेमा बिन्ते असद का आज दिलबर आ गया
मोमिनो खुशियॉ मनाओ अपना रहबर आ गया

 

इन्नमा की ले के मोहरे इस्मते परवरदिगार
मुत्तलिब का पोता और ज़हरा का शौहर आ गया

 

अज़दहे को चीरने, खैबर के दर को तोड़ने
खाना ए रब्बे जली मे आज हैदर आ गया

 

साहबे नहजुल बलाग़ा, वारीसे इल्मे नबी
इल्म के दर खोलने देखो सुख़नवर आ गया

 

खाना ए काबा पूछा, बोल तू क्यू खुश हुआ
बोला काबा आज शेरे रब्बे अकबर आ गया

 

अम्र इब्ने अब्देवुद मैदान से रूख़ मोड़ ले
कुल्ले ईमॉ की सनद लेकर दिलावर आ गया

 

जंग का पासा पलट जाता था सुन कर बात
लोग जब कहते थे आक़ाए अबुज़र आ गया

 

हैं बहुत मसरूर सुन कर ये खबर हुरो मलक
तोड़ने लातो हुबल नफ्से पयम्बर आ गया

 

क़ुरआ अन्दाज़ी हुई जन्नत मे जाने के लिए
खुश नसीबी देखीये मीसम का नंबर आ गया

user comment
 

latest article

  सफ़र के महीने की बीस तारीख़
  आशूरा के बरकात व समरात
  सबसे पहला ज़ाएर
  शहादत हज़रत मोहम्मद बाकिर (अ)
  शहादते इमामे मूसा काज़िम
  पाक मन
  सबसे अच्छा भाई
  जनाबे उम्मे कुलसूम बिन्ते इमाम अली (अ.स)
  हज़रत अली अकबर अलैहिस्सलाम
  हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल