Hindi
Friday 20th of January 2017
code: 80486
इल्म हासिल करना सबसे बड़ी इबादत है।

अहलेबैत न्यूज़ एजेंसी अबना: क़ुम में मदरसा-ए-हुज्जतिया की विशाल मस्जिद में कारगिल के मशहूर शिया आलिम हुज्जतुल इस्लाम शेख़ मुहम्मद हुसैन ज़ाकरी की मजलिस पढ़ते हुए हिंदुस्तान के प्रमुख शिया लीडर मौलाना कल्बे जवाद ने इल्म और आलिम के महत्व पर रौशनी डालते हुए कहाः इल्म हासिल करना सबसे बड़ी इबादत है और इसी लिए इस्लाम ने इल्म हासिल करने पर बहुत ज़्यादा ताकीद की है।
हुज्जतुल इस्लाम शेख़ मुहम्मद हुसैन ज़ाकरी र.ह इमाम ख़ुमैनी र.ह मेमोरियल ट्रस्ट के स्थापक और कारगिल के मशहूर शिया धर्मगुरू थे कि जिनका अभी हाल ही देहांत हो गया था
उनके ईसाले सवाब की मजलिस पवित्र शहर क़ुम के मदरसा-ए-हुज्जतिया में भारत में सुप्रीम लीडर हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई के प्रतिनिधि हुज्जतुल इस्लाम महदी महदवीपूर की ओर से आयोजित की गई जिसमें भारी संख्या में उल्मा ने शिरकत की।


source : abna24
user comment
 

latest article

  जर्मनी की 25 वर्षीय महिला ने इमाम रज़ा अ. के ...
  भारत और पाकिस्तान में ईदे मीलादुन्नबी के ...
  मुस्लिम छात्रा ने परीक्षा पर हिजाब को ...
  शैख़ ज़कज़की की रिहाई की मांग को लेकर ...
  इल्म हासिल करना सबसे बड़ी इबादत है।
  ইসলাম আমার জীবনকে পুরোপুরি বদলে দিয়েছে: ...
  अमेरिकी पुलिस के नस्लवादी रवैये के ...
  सऊदी अरब ने शहीद आयतुल्लाह निम्र के ...
  इल्म
  ज़ायोनी सैनिकों ने मस्जिदुल अक़सा के ...